व्यवसाय उपनिषद्: उद्यम धर्म से क्यों और कैसे जुड़े? — अरविन्द अग्रवाल का व्याख्यान

व्यवसाय उपनिषद प्रगतिशील उद्यमी-व्यवसाई परिवारों के लिए एक वृहद मार्गदर्शन देनेवाली पद्धति है इसके तीन भाग हैं, प्रथम भाग 512 पृष्ठों की हार्डकवर पुस्तक, द्वितीय…

View More व्यवसाय उपनिषद्: उद्यम धर्म से क्यों और कैसे जुड़े? — अरविन्द अग्रवाल का व्याख्यान

वैदिक परम्पराओं का उद्धार: चुनौतियाँ और अवसर — मोहित भारद्वाज का संगम व्याख्यान

आज हम ऐसे मोड़ पर खड़े हैं जहां हम ये जानते हैं कि बहुत कुछ हम खो चुके हैं परन्तु बहुत कुछ बचाने का एवं…

View More वैदिक परम्पराओं का उद्धार: चुनौतियाँ और अवसर — मोहित भारद्वाज का संगम व्याख्यान

विश्वगुरु भारत, अद्भुत भारत – मोहम्मद फैज़ खान का व्याख्यान

विषय वस्तु: – • भारत ही वो भूमि है जहाँ सभी मत पंथ सम्प्रदाय व सम्पूर्ण वातावरण सुरक्षित है।• भारतीय दर्शन विश्व को श्रेष्ठता की…

View More विश्वगुरु भारत, अद्भुत भारत – मोहम्मद फैज़ खान का व्याख्यान

अपने बच्चे के लिए गलत नामों के चयन से कैसे बचें | बच्चों के लिए संस्कृत नाम | Nityananda Mishra

तो हम बच्चों का नाम कैसे देते हैं? मेरा सबसे अच्छा सुझाव, मेरी पहली सिफारिश है कि वरीयता क्रम में किसी श्रोत्रिय गुरु या संस्कृत…

View More अपने बच्चे के लिए गलत नामों के चयन से कैसे बचें | बच्चों के लिए संस्कृत नाम | Nityananda Mishra

बौद्ध धर्म के चंदो क्रिया की तुमो ध्यान की समानता

निश्चित रूप से बौद्ध साहित्य का पश्चिमी साहित्य में बहुत बेहतर अध्ययन किया गया है, क्योंकि मुझे लगता है कि वे दुनिया भर में फैले…

View More बौद्ध धर्म के चंदो क्रिया की तुमो ध्यान की समानता

योग: सभी के लिए लाभदायक | राफिया नाज़ और पूनम गुप्ता के बीच संवाद

योग का अर्थ है जोड़ना। शरीर एवं आत्मा को एक साथ जोड़ कर यह हमें शुद्ध बनाता है। भारत से बौद्ध धर्म के साथ यह…

View More योग: सभी के लिए लाभदायक | राफिया नाज़ और पूनम गुप्ता के बीच संवाद

सृष्टि का आदि और अन्त | नीरज अत्रि | पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष | Neeraj Atri

जो प्राकृतिक वाले हैं,  उनका कहना है कि सृस्टि का ना तो कोई आदि है ना कोई अंत है। हमेशा से थी और हमेशा चलती रहेगी। जो…

View More सृष्टि का आदि और अन्त | नीरज अत्रि | पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष | Neeraj Atri

सत्य से सरोकार: देखें और अनुभव करें बनाम यह जानने योग्य नहीं है |नीरज अत्रि |पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष

‘नेचर ऑफ़ टरूथ’, हर किसी आइडियोलॉजी का ये क्लेम होता है की सच उनके पास है या उनको पता है दूसरे को नहीं पता। ये किसी भी…

View More सत्य से सरोकार: देखें और अनुभव करें बनाम यह जानने योग्य नहीं है |नीरज अत्रि |पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष

प्राकृतिक बनाम अब्राहमिक धर्म: अच्छे और बुरे इंसान में भेद का सिद्धांत | नीरज अत्रि |Niraj Atri | पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष

सबसे पहला जो आस्पेक्ट है पैगंबरवाद का, वो पूरी की पूरीह्यूमैनिटी को दो कैटागोरिस मैं डिवाइड करता है। वो उनकीटर्मिनोलॉजी अलग हो सकती है, ले

View More प्राकृतिक बनाम अब्राहमिक धर्म: अच्छे और बुरे इंसान में भेद का सिद्धांत | नीरज अत्रि |Niraj Atri | पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष

अब्राहमिक धर्मों की अन्य के प्रति शत्रुता क्यों? | नीरज अत्रि | Niraj Atri | Exclusivism Of Abrahamic Religions

जो ये पैगम्बरवाद है जिसे हम प्रॉफेटिज़्म कहते हैं, इन्होंने गॉड को भी आदराइज़ किया हुआ है कि गॉड भी अदर है। अब ये हमारे…

View More अब्राहमिक धर्मों की अन्य के प्रति शत्रुता क्यों? | नीरज अत्रि | Niraj Atri | Exclusivism Of Abrahamic Religions