संत रैदास जी को जब इस्लाम को अपनाने को कहा गया

संत रैदास जी का एक यह हैं, जब उनको दबाव डाला गया कि तुम इस्लाम क़ुबूल करो तो उन्होंने लिखा :- वेद धरम सबसे बड़ा…

View More संत रैदास जी को जब इस्लाम को अपनाने को कहा गया

रामानंदाचार्य ब्राह्मण वादी नहीं थे

स्वामी रामानंद ने “वैष्णव मताब्ज भास्कर” में लिखा हैं : प्राप्तम पराम सिद्धधर्मकिंचनो जानो द्विजातिरछां शरणम हरीम व्रजेत परम दयालु स्वगुणानपेक्षित क्रियाकलापादिक जाती बन्धनं सिद्धि…

View More रामानंदाचार्य ब्राह्मण वादी नहीं थे

कबीर का रामानंद जी का शिष्य न होने का दावा

आचार्य हज़ारीप्रसाद द्विवेदी ने कबीर पर सबसे सुन्दर किताब लिखी हैं I निर्विवाद रूप से उनकी किताब सबसे अधिक शोध और गहन अध्ययन के बाद…

View More कबीर का रामानंद जी का शिष्य न होने का दावा

निराला की कविता – तुलसीदास

हिंदी के महान कवी निराला ने एक कविता लिखी हैं तुलसीदास के ऊपर I उस कविता की चर्चा  साहित्य की आलोचना का जो जगत हैं,…

View More निराला की कविता – तुलसीदास

रामानंदाचार्य के १२ प्रमुख शिष्य

स्वामी रामानन्द जगह-जगह से तीर्थ करके जब वापस लौटे, तब उन्होंने यह निर्णय लिया कि इस भयावह समस्या से निपटने  लिए, दूसरे स्तर पर युद्ध…

View More रामानंदाचार्य के १२ प्रमुख शिष्य