रविवार, दिसम्बर 16"Satyam Vada, Dharmam Chara" - Taittiriya Upanishad

योगियों के साथ सवाल और जवाब

क्या गंगा के पानी में विशेष गुण हैं? Does Ganga’s Water Have Special Quality? [Hindi Dub]

क्या गंगा के पानी में विशेष गुण हैं? Does Ganga’s Water Have Special Quality? [Hindi Dub]

Source: - Sadhguru Hindi YouTube Channel आधुनिक विज्ञान स्पष्ट शब्दों में कह रहा है, कि जल किसके संपर्क में रहा है, उसके आधार पर यह अलग तरह से पेश आता, क्योंकि पानी की भी याद्दाश्त होती है। गंगाजल कुछ खास इलाकों से होकर बहता है, जहाँ सैंकड़ों पीढ़ियों से लोग आध्यात्मिक साधना करते रहे हैं, वे इस जल के संपर्क में रहे हैं। उनकी साधना का फल उस जल में मौजूद है। लेकिन आज आप जो पानी पी रहे हैं, उसे दो-तीन जगहों पर बांधों से रोका जाता है और फिर छोड़ा जाता है। आज गंगा नदी में आने वाला ज़्यादातर पानी सुरंगों से हो कर गुजरता है, यह टरबाइनों से हो कर बाहर आ रहा है। इसलिए मैं दावे के साथ नहीं कह सकता कि इसमें वैसे ही गुण हैं, लेकिन फिर भी, चाहे आप यकीन करें या न करें, अगर आप पानी को छूते हैं, तो आप देखेंगे कि यह बहुत अलग है। https://www.youtube.com/watch?v=81djhp5aj4U
सभी गुरु दाढ़ी क्यों रखते हैं? Why all the Gurus have beards? [Hindi Dub]

सभी गुरु दाढ़ी क्यों रखते हैं? Why all the Gurus have beards? [Hindi Dub]

Source: - Sadhguru Hindi YouTube Channel दाढ़ी सिर्फ गुरुओं की ही नहीं उगती, यह सारे आदमियों के चेहरे पर उगती है। शरीर का कोई भी अंग बिना किसी मकसद के नहीं बना है। कुदरत ने आपको बिना मकसद के कोई भी चीज नहीं दी है। अगर आपकी संवेदनशीलता एक खास स्तर पर है, तब आप जानेंगे कि आपके शरीर में हर चीज का क्या असर होता है और उसका क्या पहलू है। अगर आपकी बुद्धि और आपकी संवेदनशीलता काम करने लगती है, तब आपकी चिंता इस बारे में होगी कि आप अपने भीतर कैसे हैं, और आप क्या अनुभव करते हैं, और आपको ज्यादा बोध कैसे हो सकता है। आपकी चिंता ये नहीं होगी कि आप कैसे दिखते हैं। https://www.youtube.com/watch?v=vCKHH7JLuu4
आप भारत को कैसे परिभाषित करेंगे? – Sadhguru Answers

आप भारत को कैसे परिभाषित करेंगे? – Sadhguru Answers

Source: - Sadhguru Hindi YouTube Channel अभिनेत्री मनीषा कोइराला के साथ संवाद में सद्‌गुरु से प्रश्न पूछा गया कि वे भारत को कैसे परिभाषित करेंगे। सद्‌गुरु बता रहे हैं कि भारत एक ऐसी उथल पुथल है, जिसे सोच समझ कर रचा गया है। यहां हमें कभी नैतिकता के नियम नहीं बताये गए, बल्कि उथल-पुथल की गुंजाइश रखी गई जिससे कि ये एक विकास के प्रक्रिया बन जाए। https://www.youtube.com/watch?v=of2gayWOoIw