भाषण के अंश View More

सृष्टि का आदि और अन्त | नीरज अत्रि | पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष | Neeraj Atri

जो प्राकृतिक वाले हैं,  उनका कहना है कि सृस्टि का ना तो कोई आदि है ना कोई अंत है। हमेशा से थी और हमेशा चलती रहेगी। जो…

सत्य से सरोकार: देखें और अनुभव करें बनाम यह जानने योग्य नहीं है |नीरज अत्रि |पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष

‘नेचर ऑफ़ टरूथ’, हर किसी आइडियोलॉजी का ये क्लेम होता है की सच उनके पास है या उनको पता है दूसरे को नहीं पता। ये किसी भी…

प्राकृतिक बनाम अब्राहमिक धर्म: अच्छे और बुरे इंसान में भेद का सिद्धांत | नीरज अत्रि |Niraj Atri | पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष

सबसे पहला जो आस्पेक्ट है पैगंबरवाद का, वो पूरी की पूरीह्यूमैनिटी को दो कैटागोरिस मैं डिवाइड करता है। वो उनकीटर्मिनोलॉजी अलग हो सकती है, ले

अब्राहमिक धर्मों की अन्य के प्रति शत्रुता क्यों? | नीरज अत्रि | Niraj Atri | Exclusivism Of Abrahamic Religions

जो ये पैगम्बरवाद है जिसे हम प्रॉफेटिज़्म कहते हैं, इन्होंने गॉड को भी आदराइज़ किया हुआ है कि गॉड भी अदर है। अब ये हमारे…

भारतीय गुरुओं की आंतरिक इंजीनियरिंग और यह पश्चिमी दृष्टिकोण से कैसे भिन्न है

Translation Credit: Sateesh Javali. जब आप इस तरह का विश्लेषण कर रहे होते हैं, तो बहुत सारा सामान चल रहा होता है, उदाहरण के लिए,…

क्या डेसकार्टेस के अनुसार मन और शरीर पूरी तरह से अलग हैं | व्यक्ति-निष्ठ तंत्रिका विज्ञान |योगिक तंत्रिका विज्ञान

Translation Credit: – Sateesh Javali. तो, मानक दृष्टिकोण और पश्चिमी विचार हमेशा कहते हैं कि मन शरीर से स्वतंत्र है। यह रेने डेसकार्टेस है। इसलिए…

सनातन और पैगम्बरवाद में पाप की धारणा | नीरज अत्रि | The Concept Of Sin | Neeraj Atri

मनुष्य की स्थिति क्या है? (मनुष्य दो तरह के हैं – प्राकृतिक तथा पैगम्बरवादी) जिसमे की दोनों तरह के लोगो का दावा एक दूसरे का…

शिव आगम का अवतरण कैसे हुआ?

शिव आगम वे आगम हैं जो स्वयं महादेव द्वारा प्रकट किए गए थे। कामिका आगम, जो सबसे महत्वपूर्ण अगमों में से एक माना जाता है,…

हिन्दू धर्म View More

योग: सभी के लिए लाभदायक | राफिया नाज़ और पूनम गुप्ता के बीच संवाद

योग का अर्थ है जोड़ना। शरीर एवं आत्मा को एक साथ जोड़ कर यह हमें शुद्ध बनाता है। भारत से बौद्ध धर्म के साथ यह…

वैदिक विश्वदृष्टि – एक परिचय: श्री मृगेंद्र विनोद से प्रश्नोत्तर

वैदिक विश्वदृष्टि पर बातचीत का उद्देश्य इस सत्र के माध्यम से वेदों के बारे में एक परिचयात्मक समझ प्रदान करना है, फिर इसके बाद निकट…

सनातन और पैगम्बरवाद में पाप की धारणा | नीरज अत्रि | The Concept Of Sin | Neeraj Atri

मनुष्य की स्थिति क्या है? (मनुष्य दो तरह के हैं – प्राकृतिक तथा पैगम्बरवादी) जिसमे की दोनों तरह के लोगो का दावा एक दूसरे का…

भारत को आदि शंकर का अभिनंदन क्यों करना चाहिए?

Source: – Swarjya Magazine. मनुष्य चिरकाल से ईश्वर को अपने हृदय में वास करने के लिए प्रार्थना करता आया है । परंतु आदि शंकराचार्य ने…

धार्मिक ज्ञान को ग्रंथों के माध्यम से प्रसारित करने की आवश्यकता नहीं है

हम एक ऐसी सभ्यता हैं जिसके मूल में ज्ञान की बृहत् खोज करना है। हिन्दू धर्म जैसा कोई और धर्म नहीं है। यह ज्ञान परंपराओं…

शिव आगम का अवतरण कैसे हुआ?

शिव आगम वे आगम हैं जो स्वयं महादेव द्वारा प्रकट किए गए थे। कामिका आगम, जो सबसे महत्वपूर्ण अगमों में से एक माना जाता है,…

भगवान् शंकराचार्य द्वारा स्थापित चार मठ

भगवान् शंकराचार्य जानते थे, कि उनके जाने के बाद भी, भारत के ऊपर शस्त्र युद्द, वैचारिक युद्द और सांस्कृतिक युद्द थोपे जायेंगे I जानते थे…

भगवान् शंकराचार्य का अवतरण काल

पूरे facts और evidences के आधार पे हमारे पास तथ्य, प्रमाण, साक्ष और आंकड़े हैं जो यह बतातें हैं कि भगवन शंकराचार्य का अवतरण इसवी…

सध्गुरु जग्गी वासुदेव

अपने गुरु को कैसे ढूँढें? How to Find Your Guru? [Hindi Dub]

Source: – Sadhguru Hindi YouTube Channel सद्गुरु बताते हैं कि अगर आप मुक्ती चाहते हैं, सिर्फ तभी गुरु की तालाश महत्वपूर्ण है| अगर आप सांत्वना…

महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन के अनजाने आयाम

Source: – Sadhguru Hindi YouTube Channel उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर के बारे में यह अद्भुत डाक्यूमेंट्री ईशा फाउंडेशन के वॉलंटियर्स द्वारा महाकाल मंदिर को समर्पित…

सद्गुरु और ईशा योग केंद्र पर आस्था चैनल की डाक्यूमेंट्री – भाग 2

Courtesy: – Sadhguru Hindi YouTube Channel पेश है अक्टूबर 2011 में आस्था चैनल द्वारा ईशा योग केंद्र और सद्गुरु पर बनाई हुई डाक्यूमेंट्री का दूसरा…

काल भैरव कर्म – मृतकों की आत्म शान्ति के लिए

Source: – Sadhguru Hindi YouTube Channel सद्‌गुरु हमें श्राद्ध के महत्व के बारे में बता रहे हैं। वे कहते हैं कि आखिरी समय या उसके…

ध्यानलिंग – ध्यान के लिए बनाया गया एक अनूठा यंत्र. Dhyanalinga – The Meditation Machine [Hindi Dub]

Courtesy: – Sadhguru Hindi YouTube Channel मूलरूप से ध्यानलिंग को ध्यान की अवस्था में जाने के लिए तैयार किया गया है। अगर आप बस ध्यानलिंग…

क्या गंगा के पानी में विशेष गुण हैं? Does Ganga’s Water Have Special Quality? [Hindi Dub]

Source: – Sadhguru Hindi YouTube Channel आधुनिक विज्ञान स्पष्ट शब्दों में कह रहा है, कि जल किसके संपर्क में रहा है, उसके आधार पर यह…

नदी स्‍तुति | नदी अभियान गीत | भारतम् महाभारतम्

Source: – Sadhguru Hindi YouTube Channel भारत की नदियों ने हज़ारों सालों से हमारा पोषण किया है, आज उनमें जल स्‍तर बड़ी तेजी से घटता…

सभी गुरु दाढ़ी क्यों रखते हैं? Why all the Gurus have beards? [Hindi Dub]

Source: – Sadhguru Hindi YouTube Channel दाढ़ी सिर्फ गुरुओं की ही नहीं उगती, यह सारे आदमियों के चेहरे पर उगती है। शरीर का कोई भी…

पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष View More

सृष्टि का आदि और अन्त | नीरज अत्रि | पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष | Neeraj Atri

जो प्राकृतिक वाले हैं,  उनका कहना है कि सृस्टि का ना तो कोई आदि है ना कोई अंत है। हमेशा से थी और हमेशा चलती रहेगी। जो…

सत्य से सरोकार: देखें और अनुभव करें बनाम यह जानने योग्य नहीं है |नीरज अत्रि |पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष

‘नेचर ऑफ़ टरूथ’, हर किसी आइडियोलॉजी का ये क्लेम होता है की सच उनके पास है या उनको पता है दूसरे को नहीं पता। ये किसी भी…

प्राकृतिक बनाम अब्राहमिक धर्म: अच्छे और बुरे इंसान में भेद का सिद्धांत | नीरज अत्रि |Niraj Atri | पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष

सबसे पहला जो आस्पेक्ट है पैगंबरवाद का, वो पूरी की पूरीह्यूमैनिटी को दो कैटागोरिस मैं डिवाइड करता है। वो उनकीटर्मिनोलॉजी अलग हो सकती है, ले

अब्राहमिक धर्मों की अन्य के प्रति शत्रुता क्यों? | नीरज अत्रि | Niraj Atri | Exclusivism Of Abrahamic Religions

जो ये पैगम्बरवाद है जिसे हम प्रॉफेटिज़्म कहते हैं, इन्होंने गॉड को भी आदराइज़ किया हुआ है कि गॉड भी अदर है। अब ये हमारे…

सनातन और पैगम्बरवाद में पाप की धारणा | नीरज अत्रि | The Concept Of Sin | Neeraj Atri

मनुष्य की स्थिति क्या है? (मनुष्य दो तरह के हैं – प्राकृतिक तथा पैगम्बरवादी) जिसमे की दोनों तरह के लोगो का दावा एक दूसरे का…

[Q/A] पैगंबरवाद का पूर्व पक्ष — नीरज अत्रि द्वारा एक व्याख्यान

Main Talk: https://www.youtube.com/watch?v=YTg-I… पैगम्बरवादी मज़हबों के आने से पहले विश्व की विभिन्न सभ्यताओं का संक्षिप्त परिचय देने के पश्चात पैगम्बरवादी विचारधाराओं की तुलना भारतीय विचारधाराओं…

रामानन्दाचार्य View More

संत रैदास जी को जब इस्लाम को अपनाने को कहा गया

संत रैदास जी का एक यह हैं, जब उनको दबाव डाला गया कि तुम इस्लाम क़ुबूल करो तो उन्होंने लिखा :- वेद धरम सबसे बड़ा…

रामानंदाचार्य ब्राह्मण वादी नहीं थे

स्वामी रामानंद ने “वैष्णव मताब्ज भास्कर” में लिखा हैं : प्राप्तम पराम सिद्धधर्मकिंचनो जानो द्विजातिरछां शरणम हरीम व्रजेत परम दयालु स्वगुणानपेक्षित क्रियाकलापादिक जाती बन्धनं सिद्धि…

कबीर का रामानंद जी का शिष्य न होने का दावा

आचार्य हज़ारीप्रसाद द्विवेदी ने कबीर पर सबसे सुन्दर किताब लिखी हैं I निर्विवाद रूप से उनकी किताब सबसे अधिक शोध और गहन अध्ययन के बाद…

निराला की कविता – तुलसीदास

हिंदी के महान कवी निराला ने एक कविता लिखी हैं तुलसीदास के ऊपर I उस कविता की चर्चा  साहित्य की आलोचना का जो जगत हैं,…

रामानंदाचार्य के १२ प्रमुख शिष्य

स्वामी रामानन्द जगह-जगह से तीर्थ करके जब वापस लौटे, तब उन्होंने यह निर्णय लिया कि इस भयावह समस्या से निपटने  लिए, दूसरे स्तर पर युद्ध…

आदि शंकराचार्य View More

भारत को आदि शंकर का अभिनंदन क्यों करना चाहिए?

Source: – Swarjya Magazine. मनुष्य चिरकाल से ईश्वर को अपने हृदय में वास करने के लिए प्रार्थना करता आया है । परंतु आदि शंकराचार्य ने…

शंकराचार्य के बारे में जानना आवश्यक क्यों है ?

भगवान् शंकराचार्य को जानना अवतार परंपरा को जानना है, सनातन धर्म की I भगवान् शंकराचार्य को जानना , unity in diversity को जानना है I…

आदी शंकर की परंपरा के कालक्रम को अंग्रेजों ने क्यों विकृत किया ?

अंग्रेजों को मालूम था, कि जब-जब इतिहास की समीक्षा होगी तब-तब हमको Villan के रूप में देखा जायेगा I क्योकि हमने यहाँ पे इतने लूट-पाट…

भगवान् शंकराचार्य द्वारा स्थापित चार मठ

भगवान् शंकराचार्य जानते थे, कि उनके जाने के बाद भी, भारत के ऊपर शस्त्र युद्द, वैचारिक युद्द और सांस्कृतिक युद्द थोपे जायेंगे I जानते थे…

भगवान् शंकराचार्य का अवतरण काल

पूरे facts और evidences के आधार पे हमारे पास तथ्य, प्रमाण, साक्ष और आंकड़े हैं जो यह बतातें हैं कि भगवन शंकराचार्य का अवतरण इसवी…