मौन कैसे रहें? How to Become Silent? [Hindi Dub]

Courtesy: – Sadhguru Hindi YouTube Channel अपना मुँह बंद रखने से सिर्फ आधा काम ही होता है; मौन होना तभी संभव है, जब आप खुद को बहुत ज़्यादा महत्व नहीं देते हों। अगर आप सोचते हैं ‘मैं स्मार्ट हूँ,’ तो आप चुप कैसे रह सकते हैं? अगर आपको एहसास होता है कि आपको इस अस्तित्व…

महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन के अनजाने आयाम

Source: – Sadhguru Hindi YouTube Channel उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर के बारे में यह अद्भुत डाक्यूमेंट्री ईशा फाउंडेशन के वॉलंटियर्स द्वारा महाकाल मंदिर को समर्पित है। जानिए उज्जैन मैं महाकाल की भस्म आरती किस तरह से की जाती है और दर्शन कीजिये भगवान शिव के इस महाकाल के रूप का जो सदियों से यहाँ स्थापित…

सद्गुरु और ईशा योग केंद्र पर आस्था चैनल की डाक्यूमेंट्री – भाग 2

Courtesy: – Sadhguru Hindi YouTube Channel पेश है अक्टूबर 2011 में आस्था चैनल द्वारा ईशा योग केंद्र और सद्गुरु पर बनाई हुई डाक्यूमेंट्री का दूसरा भाग। इस भाग में देखिए ईशा योग केन्द्र के विभिन्न शक्ति-केन्द्र और सद्गुरु के मार्गदर्शन में चल रही ईशा फ़ाउन्डेशन की विभिन्न सामाजिक परियोजनाओं को। आइये, आप भी इस डाक्यूमेंट्री…

ध्यानलिंग – ध्यान के लिए बनाया गया एक अनूठा यंत्र. Dhyanalinga – The Meditation Machine [Hindi Dub]

Courtesy: – Sadhguru Hindi YouTube Channel मूलरूप से ध्यानलिंग को ध्यान की अवस्था में जाने के लिए तैयार किया गया है। अगर आप बस ध्यानलिंग के सामने बैठते हैं, तो आप बिना किसी निर्देश के ध्यान की अवस्था में चले जाएंगे। एक आकार को एक यंत्र भी कहते हैं। यंत्र यानी एक तरह की मशीन।…

नदी स्‍तुति | नदी अभियान गीत | भारतम् महाभारतम्

Source: – Sadhguru Hindi YouTube Channel भारत की नदियों ने हज़ारों सालों से हमारा पोषण किया है, आज उनमें जल स्‍तर बड़ी तेजी से घटता जा रहा है। आजादी के बाद से, औसतन सभी प्रमुख नदियों का जलस्‍तर लगभग 40% तक घट गया है। इन नदियों ने हजारों सालों से हमें गले लगाया है और…

Dattatreya Parvatikar: The Musician as a Mystic (Excerpt)

Source:- http://www.livemint.com/Leisure/DjnP4LCD9jTBYQ20t8ci8H/Dattatreya-Parvatikar-The-musician-as-a-mystic.html Encased in a glass cabinet at the Sangeet Natak Akademi’s headquarters in New Delhi is a unique instrument. The Datta veena, which was once played by the country’s first president, Rajendra Prasad, is the only known piece of its kind today. It bears the inscription “1961”. The instrument appears to be a hybrid…