सतान / शैतान या भगवान / अल्लाह – कौन है शक्तिशाली ?

ईसाई धर्म में, शीर्षक शैतान (हिब्रू: – शैतान), “विरोधक”, बाइबल में मनुष्यों की आस्था को चुनौती देने वाले मानवी और दिव्य दोनों प्रकार की विभिन्न संस्थाओं का एक शीर्षक है। “शैतान” बाद में बुराई के व्यक्तित्व का नाम बन गया। ईसाई परंपरा और धर्मशास्त्र ने “शैतान” को मनुष्य के विश्वास को परखने के लिए ईश्वर द्वारा नियुक्त किए गए एक अभियुक्त में बदल दिया। इस्लाम धर्म में में : “डेविल “, अरबी में “शैतान” (अरब ईसाई और मुस्लिमों द्वारा इस्तेमाल किया गया शब्द) ।

इबलीस को स्वयम पर गर्व था और वह खुद को आदम से बेहतर मानता था, क्योंकि आदम मिट्टी से बनी थी और इबलीस धुएं रहित आग से बनाया गया था। [2] इस अवज्ञा के कारण, भगवान ने उसे अनंत काल तक जहन्नुम में (नरक/यातनागृह )रहने का शाप दिया था। यह चौंकाने वाला है कि अधिकांश मुसलमान और ईसाई धर्मी एक शैतान या डेविल के होने में विश्वास रखते हैं।

‘शैतान लोगों को भगवान के मार्ग पर चलने से विचलित करते हुए उनके कानों में कुछ कहते रहते हैं” यह विचार भी संकीर्ण रूप से परमेश्वर के भय से या भगवान के रास्ते से गिरने के डर से बंधे हुए हैं। यह समाज को उन विकृतियों की ओर जाता है जो अंततः लोगों में दिखाई देती हैं, और परिणामस्वरुप समाज में ‘धार्मिक अलौकिकतावादी दृष्टिकोण’, अहंकार, हिंसक रुख दिखाई देता है और अंततः युद्ध जैसी परिस्थितियां निर्माण होती है। मेरी राय में यह इतना दयनीय है कि यह धारणायें लोगों के मन से ‘पूछने’ की क्षमता को नष्ट करती है और इस प्रकार मानव मन को समृद्ध होने और उन्हें प्रगत होने से रोकती है।
हमारे इंजीनियर्स, डॉक्टर्स, शिक्षाविद, नेतागण, हमारे सांसद और राजनीतिक प्रवक्ता (और बेशक धार्मिक नेतागण) इस तरह की बकवास में विश्वास रखते हैं, इसे बनाए रखते हैं और बच्चों और बड़ों के दिमाग को विकसित होने से रोकते हैं जो वैज्ञानिक उत्साह के साथ तर्कसंगत विचार (मानसिक स्वास्थ्य के साथ जुड़े हुए ) करने के लिए और उनके विकास के लिए आवश्यक है।
इसलिए इस पोस्ट के द्वारा, तिरस्कार की भावना से बाहर आकर, इस तरह के धर्मशास्त्र से मानव मन की योग्यता किस स्तर तक कम हो सकती है – आइये, इन सभी विचारों को सामने लायें –

• कि भगवान मनुष्य की “परीक्षा” चाहते हैं,
• निर्माता में, एक समान और विरोधी बल कार्य करता है,
• परमेश्वर का “मार्ग”,
• स्वतंत्र इच्छा,
• नरक में सदा जलना पड़ेगा

आइए इन में से कुछ विचारों का और ऐसे कारकों का पता लगाते हैं जिनसे मनुष्यमात्रा में ये चीजें आती हैं –
यहाँ मैं स्पष्टीकरण देना चाहूँगा – मैं ईश्वर और अल्लाह को एक दूसरे के साथ प्रयोग करता हूँ – इन्हें एक मानते हुए (मलेशियाई अदालतों ने गैर-मुस्लिमों को इस शब्द के इस्तेमाल करने से इनकार कर दिया है कि वे अधिक विशिष्ट दृष्टिकोण और विभाजन पैदा करते हैं)। और एक घोषणा भी – यदि आप एक रूढ़िवादी कैथोलिक या रूढ़िवादी मुस्लिम हैं, तो आप इस लेख से अपमानित महसूस करेंगे। हालांकि, इन विचारों में से कोई भी मेरे मूल विचार नहीं है – उन्होंने आपके धर्मशास्त्रियों और सह-धर्मियों को उम्र भर के लिए परेशान किया है लेकिन आप सभी ने इन्हीं घोषित लोगों को हमेशा प्रभावशाली बनाया है, जिन्होंने खुले तौर पर अपने धर्मशास्त्र के बारे में संदेह उठाया है, और पाखंडियों जैसे अल्लाह की आज्ञाओं के संरक्षण के नाम पर उन्हें उदारतापूर्वक मार डाला है । निर्माता के ऐसे शक्तिहीन और असमर्थत दूत भेजना कोई बड़ा कार्य नहीं हो सकता।

“मनुष्यों के विश्वास का परीक्षण करने के लिए भगवान द्वारा नियुक्त”

“किसीके विश्वास की परीक्षा लेना” और मनुष्यों के “भगवान के रास्ते” से गिरने की संभावना, यह विचार लोगों को दासता में रखने के लिए और निर्विवाद अंधविश्वास को बनाए रखने के लिए तैयार कीये गए हैं। यदि आप ऐसे धर्मशास्त्र से सवाल करते हैं, जैसे मैं कर रहा हूं, तो शैतान मेरे कान में आकर कुछ कहेगा, और आप भगवान के रास्ते से गिर जायेंगे। इस तरह के प्रवचन को लोगों के दिलों में डर पैदा करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिससे उन्हें इस जीवन में निर्बल और भयभीत किया जा रहा है, और अनन्त विध्वंस के साथ उन्हें जीवन के बाद नरक में जलने की धमकियाँ भी दी जा रही है।

आज्ञाकारिता में मनुष्य को नियंत्रित करने का एक शक्तिशाली तरीका क्या है!

ईश्वर, इस ब्रह्मांड का निर्माता और निश्चित रूप से एक सर्व-शक्तिशाली अस्तित्व, जिसकी इच्छा के बगैर एक पत्ता भी हिल नहीं सकता है, वह आश्चर्यजनक रूप से एक इंसान के दिमाग और विचारों को नियंत्रित करने और इस प्रकार उनकी नियति को नियंत्रित करने में असमर्थ है? कितनी शर्म की बात है! और अजीब बात है कि भगवान भुत और भविष्य सब-जानता है, यदि ऐसा है तो, यह उसकी और हमारी इच्छा के बिच एक विरोधाभास पैदा करता है। क्या वह पहले से ही जानता है कि हम अपने जीवन के विकल्प कैसे बना रहें हैं ? यदि हां, तो शैतान का कोई डर नहीं है – क्योंकि जो भी वह हमारे कानों में कहता है, वह व्यर्थ है – क्योंकि हमारे कार्य पहले से ही पूर्वनिर्धारित हो चुके हैं । इसलिए, यदि आप शैतान के बारे में सोच रहे हैं, तो डरने के बात नहीं है, वह विकल्प पहले से ही भगवान जानता होगा, और अगर वह पहले से ही हमारी पसंद जानता है, तो स्पष्ट रूप से ऐसे विकल्पों को बनाने में मनुष्यों की स्वतंत्र इच्छा होने कोई सवाल ही नहीं है, और इससे यह दिखाई देता है कि हमारे चुनाव पहले से ही निर्धारित किये गए हैं । फिर हमें स्वर्ग के लिए, नरक में क्यों जलाए ?

अल्लाह का मार्ग या शैतान का मार्ग ?

यह भगवान का मार्ग है और यह भगवान का मार्ग – नहीं है (या शैतान का रास्ता) क्यों उसके सभी मार्ग नहीं हैं? यदि वे उसके मार्ग नहीं हैं, तो उन्हें क्यों बनाया गया?
यह किस प्रकार का शक्तिशाली अल्लाह है, जो शैतान को हमारे कानों में ,उसके मार्ग पर चलने से रोकने के लिए, अपनी बकवास करने की गड़बड़ी करने से नहीं सकता है?

क्या हमारे पास “स्वतंत्र इच्छा” है?

मुक्त इच्छा एक स्वतंत्रता है। एक से अधिक विकल्प या दिशा चुनने के लिए हमारे विकल्पों को बनाने की स्वतंत्रता।
यह किस तरह का ज़ालिम ईश्वर है, जो पहले कई रास्ते बनाने की अनुमति देता है (चूंकि वह शैतान के मार्ग की अनुमति थी), शैतान को हमारे कान में बोलने की इजाजत देता है, इस तरह हमें कई विकल्प चुनने की इजाजत देता है, और फिर हम शैतान को सुनते हैं और हमें उस ‘दूसरे रास्ते’ पर चलने के कारण नरक में सज़ा दी जाती है।

वास्तव में, कौन सा मार्ग भगवान का मार्ग है ?

मेरे मुसलमानों को तर्क दिया गया है कि, मनुष्य के लिए कुरान में मुहम्मद के द्वारा अल्लाह का मार्ग निर्धारित किया गया है। आप किस तरह रहेंगे, खाना, प्रार्थना करेंगे, यौन संबंध करेंगे, किसके साथ आपको यौन संबंध रखने की इजाजत है और किसके साथ नहीं, भगवान का क्या भोजन है और क्या हराम है – सबकुछ बताया गया है। जो भी स्पष्ट रूप से नहीं बताया गया है, उसके लिए जीवन की व्याख्या करने और सामाजिक और नैतिक व्यवहार को निर्धारित करने के लिए पुजारियों और इमामों की एक श्रृंखला छोड़ी है।
इसलिए, मैंने एक हिंदू परिवार में जन्म लिया था, “सभी धर्म एक समान ही दिव्य है ” जैसे मूल्यों के साथ, एक ब्राह्मण (निर्माता) के परिवार में, जो न्याय नहीं करता, मानवता पर किसी तरह के कानूनों और शर्तों को नहीं थोपता और मानवता को बदतर नहीं बनाता – कि उसके और मुझमें कोई अंतर नहीं है; और यह कि मैं अपने आप को भगवान-की ओर बढ़ा सकता हूं; और अर्थात, यही ब्रह्मांड के अस्तित्व का एकमात्र उद्देश्य है।

और इस तरह के एक मजबूत और जिम्मेदार वातावरण में पालन पोषण होने के कारण, मैं अब यह जानता हूँ कि, मैं अल्लाह के मार्ग से भटक रहा हूं और अब मैं नरक में जला दिया जाऊँगा – जिसकी अवधि इस पर निर्धारित होगी कि मैं कितना पश्चाताप करता हूँ, आदि। अर्थात, एक आज्ञाकारी और अधीनस्थ इंसान बनने के लिए मुझे अल्लाह के मार्ग पर लौट जाना चाहिए, जिसके पास मेरे जीवन का संचालन करने के लिए एक निर्देश पुस्तिका होगी।
यह भगवान कितना शक्तिहीन और जालिम है, जिसने मुझे पहले ऐसे एक परिवार में जन्म देने की इजाजत दी, जो कि वह सब कुछ सिखाता है और उसका पथ नहीं है, और फिर मुझे वह सबकुछ जो उस परिवार से सिखा है वह किसी दूसरे तरीके से नहीं जानने के कारण नरक में जलाता है।

 

Leave a Reply